Pages

Aahista Chal Zindagi आहिस्ता चल ज़िन्दगी : poem

Aahista Chal Zindagi  आहिस्ता चल ज़िन्दगी :  poem


Aahista chal zindagi, abhi kai karz chukana baaki hai
Kuch dard mitana baaki hai, kuch farz nibhana baaki hai
Raftaar mein tere chalne se kuchh rooth gaye, kuch chhoot gaye
Roothon ko manana baaki hai, roton ko hasana baki hai
Kuch hasraatein abhi adhuri hain, kuch kaam bhi aur zaruri hai
Khwahishen jo ghut gayi iss dil mein, unko dafnana baki hai
Kuch rishte ban kar toot gaye, kuch judte-judte chhoot gaye
Un toote-chhoote rishton ke zakhmon ko mitana baki hai
Tu aage chal main aata hoon, kya chhod tujhe ji paunga?
In saanson par haqq hai jinka, unko samjhaana baaki hai
Aahista chal zindagi, abhi kai karz chukana baki hai !!


आहिस्ता चल ज़िन्दगी, अभी कई क़र्ज़ चुकाना बाकी है,
कुछ दर्द मिटाना बाकी है, कुछ फ़र्ज़ निभाना बाकी है;
रफ्तार में तेरे चलने से कुछ रूठ गए, कुछ छुट गए ;
रूठों को मनाना बाकी है, रोतो को हसाना बाकी है ;
कुछ हसरतें अभी अधूरी है, कुछ काम भी और ज़रूरी है ;
ख्वाइशें जो घुट गयी इस दिल में, उनको दफनाना अभी बाकी है ;
कुछ रिश्ते बनके टूट गए, कुछ जुड़ते जुड़ते छूट गए;
उन टूटे-छूटे रिश्तों के ज़ख्मों को मिटाना बाकी है ;
तू आगे चल में आता हु, क्या छोड़ तुजे जी पाऊंगा ?
इन साँसों पर हक है जिनका , उनको समझाना बाकी है ;
आहिस्ता चल जिंदगी , अभी कई क़र्ज़ चुकाना बाकी है ।



No comments:

Post a Comment